उत्तराखंड में कांवड़ यात्रा स्थगित, कोरोना के मद्देनज़र लिया गया फैसला

Must Read

उत्तराखंड न्यूज़ एक्सप्रेस के इस समाचार को सुनें

देहरादून – एक बड़ी खबर देहरादून से आ रही है जहाँ कोरोना के प्रकोप को देखते हुए कांवड़ यात्रा को फिलहाल स्थगित कर दिया गया है. राज्य सरकार ने कांवड़ यात्रा पर रोक लगाने के लिए आदेश जारी किए हैं। दरअसल, कोरोना संकट के बीच हरिद्वार कुंभ आयोजित करने पर उत्तराखंड सरकार की काफी आलोचना हुई। महामारी के प्रकोप को देखते हुए कुंभ का समापन बीच में ही करना पड़ा। अब कांवड़ यात्रा को लेकर उत्तराखंड सरकार कोई लापरवाही नहीं करना चाहती। कोरोना संक्रमण फैलने में कुंभ आयोजन को भी एक कारण माना जाता है। समझा जाता है कि अब कांवड़ यात्रा को अनुमति देकर उत्तराखंड सरकार अपने लिए एक और समस्या खड़ी नहीं करना चाहती इसलिए उसने एहतियातन यह फैसला किया है।

मुख्य सचिव ओमप्रकाश के निर्देश के बाद शहरी विकास विभाग ने कांवड़ यात्रा से संबंधित आदेश जारी किए हैं। सावन के महीने में हर साल कांवड़ यात्रा में देशभर से श्रद्धालु उत्तराखंड आते हैं और पवित्र नदियों से जल भरते हैं। कांवड़ियों की आवाजाही से कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा बना रहेगा।

देश में कोरोना महामारी की तीसरी लहर के आने की आशंका है। इसे देखते हुए उत्तराखंड सरकार ने चार धाम यात्रा पर रोक लगाई चुकी है। हालांकि उसने इस यात्रा को जारी रखने का फैसला किया था लेकिन उत्तराखंड उच्च न्यायालय के बाद उसे अपना फैसला बदलना पड़ा। राज्य सरकार ने चमोली, रुद्रप्रयाग और उत्तरकाशी जिलों के निवासियों को एक जुलाई से हिमालयी धामों के दर्शन की अनुमति दी थी लेकिन उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने गत 28 जून को राज्य सरकार के इस फैसले पर रोक लगा दी।

उत्तराखंड देवों की भूमि के रूप में विख्यात है। चार धाम यहीं स्थित हैं। ऐसे में उत्तराखंड में कांवड़ यात्रा को विशेष धार्मिक महत्व है। सावन के महीने में यहां बड़ी संख्या में कांवड़िए हर साल नदियों का पवित्र लेने के लिए आते हैं। कांवड़ यात्रा सावन के महीने (जुलाई-अगस्त) के दौरान संपन्न होती है।

 

Latest News

कोरोना के नए वेरिएंट को लेकर प्रदेश सरकार ने जारी की कोविड प्रतिबंधों की लिस्ट

कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन को लेकर सरकार की ओर से नई एसओपी जारी की गई है। सरकार ने...

More Articles Like This