Headline
पीएम मोदी के कार्यक्रम में किच्छा के युवक को किया गया नोमिनेट
सुप्रीम कोर्ट की फटकार : हरक सिंह रावत और किशन चंद को कॉर्बेट नेश्नल पार्क मामले में नोटिस
उत्तराखंड के ग्राफिक एरा यूनिवर्सिटी में CM धामी ने किया छठवें वैश्विक आपदा प्रबंधन सम्मेलन का शुभारम्भ
उत्तराखंड में निर्माणाधीन टनल धंसने से बड़ा हादसा, सुरंग में 30 से 35 लोगों के फंसे होने की आशंका, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी
मशहूर टूरिस्ट स्पॉट पर हादसा, अचानक टूट गया कांच का ब्रिज, 30 फीट नीचे गिरकर पर्यटक की मौत
81000 सैलरी की बिना परीक्षा मिल रही है नौकरी! 12वीं पास तुरंत करें आवेदन
देश के सबसे शिक्षित राज्य में चपरासी की नौकरी के लिए कतार में लगे इंजीनियर, दे रहे साइकिल चलाने का टेस्ट
Uttarakhand: पहली बार घर-घर किया गया विशेष सर्वे, प्रदेश से दो लाख मतदाता गायब, नोटिस जारी
Uttarakhand: धामी सरकार का एलान, राज्य स्थापना दिवस तक हर व्यक्ति को मिलेगा आयुष्मान कवच

पत्नी के खिलाफ दुष्प्रचार करने वालो पर 1 करोड़ की मानहानि का मुकदमा करेंगे भाजयुमो पूर्व प्रदेश अध्यक्ष

देहरादून – ukssc के पेपरलीक को लेकर अभी तक आरोपियों की धरपकड़ जारी है, जहाँ पेपरलीक का एक मुख्य आरोपी मूसा को उत्तराखंड पुलिस ने नेपाल में दबोचा है वहीँ प्रदेश में राजनीति में भी आरोप प्रत्यारोप का सिलसिला जारी है.

आपको बताते चलें की भारतीय युवा मोर्चा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष कुंदन लटवाल की पत्नी सुमन पिल्ख्वाल पर पहाड़ी आर्मी ने अस्सिस्टेंट प्रोफेसर के संविदा के पद पर तैनाती को लेकर आरोप लगाया था. जिसपर पूर्व प्रदेश अध्यक्ष ने काफी नाराज़गी दिखाते हुए कहा की अगर 10 दिनों के भीतर पहाड़ी आर्मी माफ़ी नहीं मांगती है तो उनके ख़िलाफ़ एक करोड़ की मानहानि का दावा करेंगे.

भाजयुमो के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष कुंदन लटवाल ने उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्याल में असिस्टेंट प्रोफेसर(एसी) के पद पर संविदा में तैनात अपनी पत्नी सुमन पिल्खवाल के खिलाफ सोशल मीडिया में दुष्प्रचार का आरोप लगाते हुए पहाड़ी आर्मी पर मुकदमा दर्ज कराने की चेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि दुष्प्रचार की वजह से उनके परिवार को मानसिक रूप से काफी परेशानी हुई है। यदि दुष्प्रचार करने वालों ने 10 दिन में माफी नहीं मांगी और अपने सोशल साइट के पेज से पोस्ट को डिलिट नहीं किया तो वह उनके खिलाफ एक करोड़ रुपये की मानहानि के साथ मुकदमा दर्ज कराएंगे।

अधिवक्ता के साथ पत्रकार वार्ता को पहुंचे कुंदन ने कहा कि उनकी पत्नी ने अपनी योग्यता के दम पर पद हासिल किया है। पहाड़ी आर्मी का न तो राजनीतिक दल के रूप में रजिस्ट्रेशन है और न ही सामाजिक संगठन के रूप में उसे पंजीकृत किया गया है। बावजूद राजनीति से प्रेरित होकर पहाड़ी आर्मी नेता ने उनके खिलाफ दुष्प्रचार किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top