Headline
पीएम मोदी के कार्यक्रम में किच्छा के युवक को किया गया नोमिनेट
सुप्रीम कोर्ट की फटकार : हरक सिंह रावत और किशन चंद को कॉर्बेट नेश्नल पार्क मामले में नोटिस
उत्तराखंड के ग्राफिक एरा यूनिवर्सिटी में CM धामी ने किया छठवें वैश्विक आपदा प्रबंधन सम्मेलन का शुभारम्भ
उत्तराखंड में निर्माणाधीन टनल धंसने से बड़ा हादसा, सुरंग में 30 से 35 लोगों के फंसे होने की आशंका, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी
मशहूर टूरिस्ट स्पॉट पर हादसा, अचानक टूट गया कांच का ब्रिज, 30 फीट नीचे गिरकर पर्यटक की मौत
81000 सैलरी की बिना परीक्षा मिल रही है नौकरी! 12वीं पास तुरंत करें आवेदन
देश के सबसे शिक्षित राज्य में चपरासी की नौकरी के लिए कतार में लगे इंजीनियर, दे रहे साइकिल चलाने का टेस्ट
Uttarakhand: पहली बार घर-घर किया गया विशेष सर्वे, प्रदेश से दो लाख मतदाता गायब, नोटिस जारी
Uttarakhand: धामी सरकार का एलान, राज्य स्थापना दिवस तक हर व्यक्ति को मिलेगा आयुष्मान कवच

flower valley: मायूस होकर लौट रहे पर्यटक, बारिश ना होने के कारण फीकी पड़ रही घाटी की रौनक

Uttarakhand: फूलों की घाटी यानी नंदा देवी राष्ट्रीय पार्क जो की उत्तराखंड के चमोली, पिथौरागढ़ और बागेश्वर जिले मैं फैला है, यह फूलों की घाटी पर्यटकों ‌के लिए 1 जून से खोल दी गई है और लगातार 700 से अधिक पर्यटक घाटी पहुंच चुके हैं। आपको बताते चलें की हर साल ‌फूलों की घाटी में 300 से भी अधिक प्रजातियों के फूल खिलते हैं हालांकि इस बार बारिश ना होने के कारण घाटी में अभी करीब एक दर्जन प्रजाति के फूल ही खिले हैं। इसी के ‌साथ ही नंदा देवी राष्ट्रीय पार्क प्रशासन को बारिश होने और फूलों के खेलने का इंतजार है।

नंदा देवी राष्ट्रीय पार्क विश्व प्रसिद्ध फूलों की घाटी माना जाता है पर लंबे समय से बारिश ना होने के कारण इस वर्ष अभी तक घाटी में बेहद कम फुल नजर आ रहे हैं। जबकि पिछले साल के मुताबिक सामान्य स्थिति में यहां जून के प्रथम सप्ताह में ही फूल खिल जाते थे। घाटी से लौटते हुए पर्यटक अल्मोड़ा के गोकुल कुमार गोस्वामी, बंगाल की करण सलूजा का मानना है कि अभी फिलहाल घाटी में बहुत ही कम प्रजाति के फूल खिले हैं लेकिन प्राकृतिक सुंदरता अद्भुत है। माना जाता है कि फूलों की घाटी मैं जुलाई और अगस्त में सबसे अधिक फूल खिलते हैं, यहां 300 से भी अधिक प्रजातियों के फूल देखने को मिलते हैं जो कि इस बार कारण वर्ष बारिश के वजह से नहीं हुए।

फूलों की घाटी के वन क्षेत्रधिकारी बृजमोहन भारती से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि बरसात ना होने से इस बार‌‌ कम फूल खिले हैं, बारिश होते ही घाटी फूलों से सरोवर हो जाएगी और इसी दौरान ‌पूरी घाटी रंग-बिरंगे फूलों से महकने लगेगी। उत्तराखंड के चमोली क्षेत्र में स्थित नंदा देवी घाट 87 sq. Km तक फैला हुआ है। 300 से भी अधिक प्रजातियों के फूल पाए जाने वाली इस घाटी मैं इस साल बारिश ना होने के कारण जून के पहले सप्ताह में एक दर्जन प्रजाति के फूल ही खिल पाए है।

               नंदा देवी राष्ट्रीय पार्क

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top