Headline
पीएम मोदी के कार्यक्रम में किच्छा के युवक को किया गया नोमिनेट
सुप्रीम कोर्ट की फटकार : हरक सिंह रावत और किशन चंद को कॉर्बेट नेश्नल पार्क मामले में नोटिस
उत्तराखंड के ग्राफिक एरा यूनिवर्सिटी में CM धामी ने किया छठवें वैश्विक आपदा प्रबंधन सम्मेलन का शुभारम्भ
उत्तराखंड में निर्माणाधीन टनल धंसने से बड़ा हादसा, सुरंग में 30 से 35 लोगों के फंसे होने की आशंका, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी
मशहूर टूरिस्ट स्पॉट पर हादसा, अचानक टूट गया कांच का ब्रिज, 30 फीट नीचे गिरकर पर्यटक की मौत
81000 सैलरी की बिना परीक्षा मिल रही है नौकरी! 12वीं पास तुरंत करें आवेदन
देश के सबसे शिक्षित राज्य में चपरासी की नौकरी के लिए कतार में लगे इंजीनियर, दे रहे साइकिल चलाने का टेस्ट
Uttarakhand: पहली बार घर-घर किया गया विशेष सर्वे, प्रदेश से दो लाख मतदाता गायब, नोटिस जारी
Uttarakhand: धामी सरकार का एलान, राज्य स्थापना दिवस तक हर व्यक्ति को मिलेगा आयुष्मान कवच

गोवा जैसी परिस्तिथियाँ अब उत्तराखंड में भी, इन तीन कांग्रेसी नेताओ ने पार्टी छोड़ थामा AAP का हाथ

गोवा में कांग्रेसी विधायकों को लेकर चल रही हलचल अभी खत्म नहीं हुई थी कि अब इसी बीच उत्तराखंड में कांग्रेस को बड़ा झटका लग गया। तीन नेताओं ने पार्टी छोड़ी तो 2016 में हरीश रावत की सरकार के लिए बागी के रूप में जाने गए हरक सिंह के घर कांग्रेसी नेताओं की बैठक ने यह साफ जाहिर कर दिया कि जैसी प्रस्तिथिया गोवा में थी वही अब उत्तराखंड में कांग्रेस पार्टी के साथ हो रहा है। उत्तराखंड चुनाव में हार के बाद से ही कांग्रेस पार्टी में भगदड़ मची है। 11 जुलाई को दिन में ही दो नेताओं ने कांग्रेस छोड़ दी तो शाम होते-होते हरक सिंह रावत के घर कई दिग्गज नेताओं की बैठक हुई। ये बैठक कांग्रेस के लिए टेंशन बढ़ाने वाली मानी जा रही है।

उत्तराखंड कांग्रेस को एक ही दिन में तीन झटके लगने के बाद कांग्रेस नेता और पूर्व कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत के घर पार्टी के अंदरूनी हालात पर चर्चा हुई जिसके बाद कांग्रेस पार्टी टेंशन में है। सूत्रों के मुताबिक पूर्व मुख्यमंत्री और पार्टी के महासचिव हरीश रावत इस बैठक में शामिल नहीं हुए। पार्टी में इस्तीफों का दौर चल रहा है तो चुनाव परिणाम के ऐलान के बाद से ही कांग्रेस से नेताओं के पलायन का सिलसिला भी चालू है। ऐसे हालात में हरक सिंह रावत के घर उत्तराखंड कांग्रेस के कई दिग्गज नेताओं की मीटिंग की खबर ने पार्टी की मुसीबतें बढ़ा दी हैं।

 माना जा रहा है की कांग्रेस को ये आस थी कि 2022 के चुनाव में पार्टी सत्ता वापस पाने में सफल रहेगी लेकिन ऐसा हुआ नहीं और नतीजा ये निकला कि चुनावी शिकस्त के बाद से ही पार्टी में भगदड़ सी मची है। साथ ही कुछ महीने पहले चुनाव नतीजे आने के बाद कई नेता पार्टी से किनारा कर चुके हैं। 11 जुलाई को भी कांग्रेस के दो नेताओं ने पार्टी छोड़ दी थी। अब एक बार फिर से हरक सिंह रावत के घर हुई बैठक ने कांग्रेस पार्टी की टेंशन बढ़ा दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top