Headline
पीएम मोदी के कार्यक्रम में किच्छा के युवक को किया गया नोमिनेट
सुप्रीम कोर्ट की फटकार : हरक सिंह रावत और किशन चंद को कॉर्बेट नेश्नल पार्क मामले में नोटिस
उत्तराखंड के ग्राफिक एरा यूनिवर्सिटी में CM धामी ने किया छठवें वैश्विक आपदा प्रबंधन सम्मेलन का शुभारम्भ
उत्तराखंड में निर्माणाधीन टनल धंसने से बड़ा हादसा, सुरंग में 30 से 35 लोगों के फंसे होने की आशंका, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी
मशहूर टूरिस्ट स्पॉट पर हादसा, अचानक टूट गया कांच का ब्रिज, 30 फीट नीचे गिरकर पर्यटक की मौत
81000 सैलरी की बिना परीक्षा मिल रही है नौकरी! 12वीं पास तुरंत करें आवेदन
देश के सबसे शिक्षित राज्य में चपरासी की नौकरी के लिए कतार में लगे इंजीनियर, दे रहे साइकिल चलाने का टेस्ट
Uttarakhand: पहली बार घर-घर किया गया विशेष सर्वे, प्रदेश से दो लाख मतदाता गायब, नोटिस जारी
Uttarakhand: धामी सरकार का एलान, राज्य स्थापना दिवस तक हर व्यक्ति को मिलेगा आयुष्मान कवच

नैनीताल में वैज्ञानिकों ने ढूंढ निकाली एक और झील, नैनीझील से 400 मीटर है दूरी

नैनीताल – 1980 में बलिया नाले में हुए भूस्खलन के बाद से नैनीताल की अंदरूनी परत संवेदनशील बनी हुई है. जिसके बाद से इस क्षेत्र में लगातार सर्वे होते रहतें हैं. नैनीझील से करीब 400 मीटर दूर एक नई भूमिगत झील मिली है। आईआईटी रुड़की के सर्वे में यह बात सामने आई है। सर्वे रिपोर्ट के अनुसार, नई झील करीब 200 मीटर लंबी और पांच मीटर तक गहरी है। यह झील मिलने के बाद नैनीझील से रिसाव की चिंताओं पर भी विराम लग गया है।

नैनीताल का निचला हिस्सा चार दशकों से संवेदनशील बना हुआ है। यहां बलिया नाले में 1980 में भूस्खलन के बाद इसके ट्रीटमेंट और सर्वे का काम शुरू हुआ। माना जा रहा था कि भूस्खलन नैनीझील में पानी रिसाव के कारण हो रहा है। इसके सर्वे के लिए आईआईटी रुड़की, वाडिया इंस्टीट्यूट, देहरादून, जीएसआई समेत कई एजेंसियां को जुटाया गया। इसी दौरान आईआईटी रुड़की की सर्वे टीम ने नैनीझील से करीब 400 मीटर दूर भवाली की तरफ 70 मीटर इलाके का भूमिगत सर्वे किया। अब इसकी रिपोर्ट आई है। रिपोर्ट से पता चला है कि यहां जो पानी का रिसाव हो रहा है, वह नैनीझील से नहीं बल्कि भूमिगत नई झील के कारण हो रहा है।

भूस्खलन रोकने में मदद मिलेगी: चार दशकों में करोड़ों रुपये खर्च करने के बावजूद स्थानीय लोगों को इस दहशत से निजात नहीं मिल पाई है। भूस्खलन के खतरे के चलते कई लोगों को मकान भी छोड़ने पड़े। नई झील का पता चलने से बलियानाले के बड़े इलाके में चार दशकों से भूस्खलन रोकने में भी मदद मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top