Headline
पीएम मोदी के कार्यक्रम में किच्छा के युवक को किया गया नोमिनेट
सुप्रीम कोर्ट की फटकार : हरक सिंह रावत और किशन चंद को कॉर्बेट नेश्नल पार्क मामले में नोटिस
उत्तराखंड के ग्राफिक एरा यूनिवर्सिटी में CM धामी ने किया छठवें वैश्विक आपदा प्रबंधन सम्मेलन का शुभारम्भ
उत्तराखंड में निर्माणाधीन टनल धंसने से बड़ा हादसा, सुरंग में 30 से 35 लोगों के फंसे होने की आशंका, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी
मशहूर टूरिस्ट स्पॉट पर हादसा, अचानक टूट गया कांच का ब्रिज, 30 फीट नीचे गिरकर पर्यटक की मौत
81000 सैलरी की बिना परीक्षा मिल रही है नौकरी! 12वीं पास तुरंत करें आवेदन
देश के सबसे शिक्षित राज्य में चपरासी की नौकरी के लिए कतार में लगे इंजीनियर, दे रहे साइकिल चलाने का टेस्ट
Uttarakhand: पहली बार घर-घर किया गया विशेष सर्वे, प्रदेश से दो लाख मतदाता गायब, नोटिस जारी
Uttarakhand: धामी सरकार का एलान, राज्य स्थापना दिवस तक हर व्यक्ति को मिलेगा आयुष्मान कवच

क्या आपने देखा युवा सीएम धामी का एक महीने का रिपोर्ट कार्ड ?

देहरादून – उत्तराखंड की जनता ने एक वर्ष में तीन मुख्यमंत्री बदलते हुए देखें है, जब सीएम धामी ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी तब से लेकर अब तक जिन जिन योजनाओं का आरंभ हुआ है तथा जो भी जनकल्याणकारी निर्णय लिए गयें हैं, उन सब की जारी की गयी है. जैसे की उत्तराखंड न्यूज़ एक्सप्रेस आपको पहले भी बता चूका है की मुख्यमंत्री द्वारा कुछ कार्य काफी सराहनीय है (यहाँ क्लिक करके पढ़ें).

एक महिना बीत जाने पर मुख्यमंत्री के ट्विटर हैंडल से पूरे माह का रिपोर्ट कार्ड जारी किया गया है जिसमे बताया गया है की इस माह लगभग 9 योजनाओं को को लेकर जनकल्याणकारी निर्णय लिए गये. जिसमे गेस्ट टीचर का वेतन 15 हज़ार से बढ़ाकर 25 हज़ार किया जाना तथा ख़ाली पड़े पदों की भर्ती.

वहीँ इस रिपोर्टकार्ड में सबसे महत्वपूर्ण बात यह है की उत्तराखंड की इकोनोमी पर्यटन पर आधारित है तथा पिछले दिनों हमने देखा की देशभर से आने वाले पर्यटकों की भीड़ किस तरह कोरोना नियमों का उल्लंघन करती हुई नज़र आ रही थी, जिसमे राज्य सरकार ने तवरित कार्यवाही करते हुए 72 घंटे की कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट को अनिवार्य कर दिया तथा पर्यटन स्थलों से भीड़ कम करने के लिए मसूरी जैसी जगहों पर दो पहिया वाहनों का प्रवेश निषेध कर दिया. जिससे राज्य में कोरोना का खतरा तो कम हुआ लेकिन पर्यटन पर ख़ासा असर पड़ा, वहीँ एक के बाद दूसरा लॉकडाउन झेल चुकें पर्यटन उधोग की स्थिति खराब है, इसका ध्यान रखते हुए मुख्यमंत्री धामी ने 200 करोड़ के राहत पैकेज की घोषणा की जिससे की मृत अवस्था में पहुँच चुके पर्यटन उधोग में जान फूंकी जा सके.

Image

जिस तरह से एक के बाद एक 9 योजनाओं के निर्णय लिए गये उसे देखकर कहा जा सकता है की युवा जोश के साथ साथ सीएम में जनता की भावनाओं की कद्र है, जिसका एक कारण वात्सल्य योजना है, जिसमे उन अनाथ बच्चों को प्रतिमाह 3000 रुपए की धनराशी सीधे बच्चों के खाते में ट्रान्सफर की जाएगी जिनके माता-पिता का देहांत इस कोरोनाकाल में हुआ है. हालाँकि मुख्यमंत्री ने कहा की मैं नहीं चाहता की किसी बच्चे को ऐसे परिस्थिति से गुज़ारना पड़े और इस योजना में उसका नाम आये.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top