Headline
पीएम मोदी के कार्यक्रम में किच्छा के युवक को किया गया नोमिनेट
सुप्रीम कोर्ट की फटकार : हरक सिंह रावत और किशन चंद को कॉर्बेट नेश्नल पार्क मामले में नोटिस
उत्तराखंड के ग्राफिक एरा यूनिवर्सिटी में CM धामी ने किया छठवें वैश्विक आपदा प्रबंधन सम्मेलन का शुभारम्भ
उत्तराखंड में निर्माणाधीन टनल धंसने से बड़ा हादसा, सुरंग में 30 से 35 लोगों के फंसे होने की आशंका, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी
मशहूर टूरिस्ट स्पॉट पर हादसा, अचानक टूट गया कांच का ब्रिज, 30 फीट नीचे गिरकर पर्यटक की मौत
81000 सैलरी की बिना परीक्षा मिल रही है नौकरी! 12वीं पास तुरंत करें आवेदन
देश के सबसे शिक्षित राज्य में चपरासी की नौकरी के लिए कतार में लगे इंजीनियर, दे रहे साइकिल चलाने का टेस्ट
Uttarakhand: पहली बार घर-घर किया गया विशेष सर्वे, प्रदेश से दो लाख मतदाता गायब, नोटिस जारी
Uttarakhand: धामी सरकार का एलान, राज्य स्थापना दिवस तक हर व्यक्ति को मिलेगा आयुष्मान कवच

बिल भुगतान की रकम खाते में न जमा कर लग रहा ऊर्जा निगम को चूना; निर्देश जारी

आए दिन बिजली चोरी के मामले से तो हम सब वाकिफ है मगर जब उर्जा निगम में ही ऐसे लोग मोजूद हो जो ऊर्जा निगम को ही चूना लगाने का काम करे तो फिर यह चिंता का विषय बन जाता है। ऐसा ही कुछ मामला यूपीसीएल के रुद्रपुर डिवीजन के गदरपुर सब डिवीजन में सामने आया है। जहाँ बिल भुगतान की रकम निगम के खाते में जमा न होने का मामला सामने आया है। इसी के चलते मामले की जांच के लिए मुख्यालय के डीजीएम वित्त की अध्यक्षता में एक जांच समिति गठित कर दी है।

दरअसल, खभर मिल रही है कि यूपीसीएल के रुद्रपुर डिवीजन के गदरपुर सब डिवीजन में बिल भुगतान की रकम निगम के खाते में जमा न होने का मामला सामने आया है जिसके बाद  ईई सहित चार को सस्पेंड भी कर दिया गया है। प्राथमिक जांच में इस मामले से जुड़े कई तथ्य सामने आने के बाद यूपीसीएल ने एग्जीक्यूटिव इंजीनियर गोविंद सिंह कार्की, एसडीओ फरमान हैदर जैदी, असिस्टेंट इंजीनियर संजय कुमार और कैशियर पुष्पेंद्र शर्मा को निलंबित कर दिया था। बृहस्पतिवार को एमडी ने मुख्यालय से एक जांच समिति गठित कर दी। यह जांच समिति मौके पर जाकर बिल भुगतान से जुड़े सभी तथ्यों की पड़ताल कर एमडी को रिपोर्ट देगी।

साथ ही ख़बरों के मुताबिक जांच रिपोर्ट के आधार पर निगम प्रबंधन आगे की कार्रवाई करेगा। एक-दो दिन में देहरादून से जांच समिति रुद्रपुर पहुंच जाएगी। यूपीसीएल एमडी ने सभी डिवीजन को चेताया है कि वह पिछले 01 साल में हुए बिल भुगतान का पूरा ब्योरा दोबारा जांचें और इसमें कहीं भी किसी तरह की कमी दिखाई पड़ने पर तत्काल निगम मुख्यालय को अवगत कराएं। वहीं, यूपीसीएल के निलंबित कैशियर ने बैंक के कैशियर के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज कराया है। बताया जा रहा है कि यूपीसीएल के कैशियर को लगातार कैश जमा कराने पर बैंक कैशियर की ओर से रसीद दी जा रही थी। हालांकि मामला अभी पूरी तरीके से साफ़ नहीं है जो की जांच के बाद ही स्पष्ट हो पाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top