उत्तराखंड घूमने आ रहे पर्यटकों को क्यों जानना ज़रूरी है ‘मिशन मर्यादा’ के बारे में?

Must Read

उत्तराखंड न्यूज़ एक्सप्रेस के इस समाचार को सुनें

देहरादूनउत्तराखंड न्यूज़ एक्सप्रेस स्पेशल रिपोर्ट  – देव भूमि उत्तराखंड को प्रकृति का दिया हुआ सबसे बहुमूल्य उपहार यहाँ का प्राकृतिक सौदंर्य है, देहरादून से लेकर नेपाल बॉर्डर तक और हरिद्वार से लेकर चाइना बॉर्डर तक आपार प्राकृतिक सौन्दर्य की बानगी यहाँ देखने को मिलती है. यही कारण है की दुसरे प्रदेशों से पर्यटक यहाँ घूमने आतें है और उत्तराखंड की प्रशंसा किये बगैर नही रह पाते.

नैनीताल, अल्मोड़ा, पिथौरागढ़, हरिद्वार, पौड़ी, मसूरी, रानीखेत जैसे सौन्दर्य-बहुल क्षेत्र जिसकी हवा में सम्मोहन की शक्ति है और सांस्कृतिक नगरी होने के साथ साथ पुराने मंदिर श्रद्धा का केंद्र भी है, जैसे की अल्मोड़ा के पास जागेश्वर धाम, देहरादून का टपकेश्वर मंदिर, हरकी पैड़ी आदि, लेकिन ऐसा क्या हुआ की वातावरण शीतल होने के बावजूद भी उत्तराखंड पुलिस को ‘मिशन मर्यादा‘ चलाना पड़ा. जो की आजकल काफी चर्चाओं में है.

May be an image of 1 person

क्या है मिशन मर्यादा ?

जैसा की पहले भी ज़िक्र किया गया की उत्तराखंड देवभूमि होने के साथ साथ दुर्लभ धार्मिक स्थलों के लिए भी प्रसिद्ध है. गंगास्नान से लेकर मंदिरों के दर्शन तक लाखों पर्यटक प्रतिवर्ष उत्तराखंड आतें है लेकिन कुछ लोगो के कारण धार्मिक स्थलों की मर्यादा भंग हो रही है. जैसे की धार्मिक स्थलों के समीप जाकर शराब पीना, जन्मदिन पार्टी वगैहरा करना.

पुलिस को आये दिन इस तरह की खबरों से दो-चार होना पड़ रहा था की धार्मिक स्थान की पवित्रता को को ध्यान में ना रखते हुए कुछ लोग वहां शराब पीकर हुडदंग मचातें है. जबकि ऐसे स्थानों पर आमतौर पर व्यक्ति परिवार के साथ जाता है. धार्मिक स्थलों की मर्यादा तथा पवित्रता को ध्यान में रखते हुए उत्तराखंड के डीजीपी अशोक कुमार ने ”मिशन मर्यादा‘ की शुरुआत की. आपको बताते चलें की इससे पहले डीजीपी अशोक कुमार ने ‘मिशन हौसला’ का भी संचालन किया था जिसके तहत पहाड़ के दूरस्थ स्थानों पर कोरोनाकाल में राशन,मेडिकल किट इत्यादि पहुंचाई गयी थी. इस मिशन की भी पुलिस महकमे को भूरी भूरी प्रशंसा मिली थी.

मिशन हौसला सफल होने से पुलिस डिपार्टमेंट में आत्मविश्वास की जहाँ वृद्धि हुई वहीँ हो सकता है की आने वाले समय में हमें कुछ ऐसे मिशन और भी देखने को मिलें जो की प्रदेश वा प्रदेशवासियों के हित में हो.

मिशन मर्यादा- मात्र एक मिशन नहीं बल्कि प्रण हैं मां गंगा की पवित्रता का और अखंडता बनाए रखने का। – उत्तराखंड पुलिस 

‘मिशन मर्यादा’ के तहत उन लोगो की धरपकड़ जारी है जो धार्मिक स्थलों पर आकर शराब, हुक्का, जन्मदिन पार्टी, डांस पार्टी इत्यादि करतें है अथवा गन्दगी फैलातें हैं. वैसे अगर यह कहा जाए की धार्मिक स्थलों पर धर्म-कर्म के अलावा अगर आप किसी तरह का हुडदंग मचातें हैं तो पुलिस की पैनी नज़र आप पर हमेशा हैं.

अब तक कितनी कार्यवाहियां हो चुकी है ‘मिशन मर्यादा’ के तहत ?

15 जुलाई से शुरू किये गये इस मिशन की कार्यवाही की सबसे पहली गाज गिरी ऋषिकेश के त्रिवेणी घाट परिसर में गंगा तट के निकट पार्किंग पर हुक्का पीकर हुड़दंग करने वाले तीन व्यक्तियों पर जिन्हें सूचना मिलने पर ऋषिकेश पुलिस ने गिरफ्तार किया. वहीँ मात्र एक सप्ताह के भीतर ही धार्मिक स्थलों व गंगा के घाटों पर हुड़दंग मचाने वालों के खिलाफ  कुल 1095 व्यक्तियों पर सख्त कार्यवाही की गई है।

जिसमें उत्तराखण्ड पुलिस द्वारा धार्मिक स्थलों में गंदगी फैलाने पर 23, धूम्रपान करने पर 33, हुडदंग मचाने पर 658, अशांति फैलाने पर 47 व्यक्तियों का चालान किया गया व गंगा घाट पर बैठकर शऱाब पीने पर 17 व धूम्रपान करने पर 13 व जूआ खेलने पर चार व्यक्तियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।
May be an image of 5 people, people standing, indoor and text that says "PR શ્રી सुरक्षित कुम्भ ज सनात"
वहीँ कार्यवाही निरंतर जारी है तथा इस धरपकड के कार्य में अब धार्मिक स्थल को पिकनिक स्पॉट समझने वाले, बर्थडे पार्टी मनाने वालो पर भी पुलिस की सख्ती कायम हैं. आज 9 अगस्त को पुलिस ने उन पांच युवकों केक सहित हिरासत में लिया जो हरिद्वार स्थित हरकी पैड़ी ब्रह्मकुण्ड पर बर्थडे केक काटकर हुड़दंग मचा रहे थे. साथ ही 17 लोगों के खिलाफ गंगा घाटों पर गंदगी फैलाने पर जुर्माने की कार्यवाही की गयी है।

 

Latest News

कोरोना को लेकर सरकार सख्त: बिना मास्क पकड़े जाने पर 1000 रुपए तक जुर्माना

देहरादून राजधानी की सड़कों व बाजारों में बिना मास्क के घूमने वालों को यह खबर सावधान करने वाली है।...

More Articles Like This