Headline
पीएम मोदी के कार्यक्रम में किच्छा के युवक को किया गया नोमिनेट
सुप्रीम कोर्ट की फटकार : हरक सिंह रावत और किशन चंद को कॉर्बेट नेश्नल पार्क मामले में नोटिस
उत्तराखंड के ग्राफिक एरा यूनिवर्सिटी में CM धामी ने किया छठवें वैश्विक आपदा प्रबंधन सम्मेलन का शुभारम्भ
उत्तराखंड में निर्माणाधीन टनल धंसने से बड़ा हादसा, सुरंग में 30 से 35 लोगों के फंसे होने की आशंका, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी
मशहूर टूरिस्ट स्पॉट पर हादसा, अचानक टूट गया कांच का ब्रिज, 30 फीट नीचे गिरकर पर्यटक की मौत
81000 सैलरी की बिना परीक्षा मिल रही है नौकरी! 12वीं पास तुरंत करें आवेदन
देश के सबसे शिक्षित राज्य में चपरासी की नौकरी के लिए कतार में लगे इंजीनियर, दे रहे साइकिल चलाने का टेस्ट
Uttarakhand: पहली बार घर-घर किया गया विशेष सर्वे, प्रदेश से दो लाख मतदाता गायब, नोटिस जारी
Uttarakhand: धामी सरकार का एलान, राज्य स्थापना दिवस तक हर व्यक्ति को मिलेगा आयुष्मान कवच

पंतनगर यूनिवर्सिटी बनी केंद्रीय विश्वविद्यालय, लोगो में ख़ुशी का माहौल

पंतनगर विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय बनाने के लिए कैबिनेट में प्रस्ताव को मंजूरी मिलने पर मेयर रामपाल सिंह और भाजपा रूद्रपुर उत्तरी मंडल अध्यक्ष राकेश सिंह के नेतृत्व में पार्षदों ने मिष्ठान वितरण कर खुशी का इजहार किया और मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का आभार व्यक्त किया।

इस दौरान मेयर रामपाल सिंह ने कहा कि पंतनगर विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय बनाये जाने का फैसला तराई के साथ ही पहाड़ के लिए भी बड़ी सौगात है। इसकी मांग लम्बे समय से की जा रही थी। पूर्व में कुछ लोग निजी स्वार्थों के चलते पंतनगर को केंद्रीय विश्वविद्यालय बनाये जाने का विरोध कर रहे थे लेकिन भाजपा सरकार ने विकास परक सोच का परिचय देते हुए केंद्रीय विश्वविद्यालय के प्रस्ताव को कैबिनेट में मंजूरी देकर जनभावनाओं का सम्मान किया है।

केंद्रीय विश्वविद्यालय बनने से पंतनगर विश्व विद्यालय विकास की दिशा में तेजी से अग्रसर होगा। इसका लाभ न सिर्फ यहां के युवाओं को मिलेगा बल्कि शोध कार्य व रोजगार दोनों में वृद्धि होगी। मेयर ने कहा पंतनगर विवि देश की अमूल्य धरोहर है। केंद्रीय विवि का दर्जा मिलने से विद्यार्थियों, वैज्ञानिकों, किसानों सहित देश एवं समाज के सभी वर्गों को लाभ पहुंचेगा। केंद्रीय विवि का दर्जा मिलने से न केवल विवि में देश दुनिया के मेधावी छात्र पढ़ने व शोध करने आएंगे, बल्कि जिससे शोधों की गुणवत्ता के साथ शिक्षा की गुणवत्ता में भी वृद्धि होगी और इसका लाभ राज्य के किसान के साथ देश के अन्य राज्यों को भी मिलेगा।

कृषि से जुड़े विभिन्न प्रकार की तकनीकों का विकास होने से नई तकनीकों की खोज होगी। तराई के साथ प्रदेश के दूरस्थ जिलों की जरुरतों के हिसाब से उन्नतशील प्रजातियों के साथ टेक्नोलाजी विकसित हो सकेगी। इसका लाभ मैदानी के साथ पर्वतीय जिलों के किसानों को भी मिलेगा। इस असर पर भाजपा नेता राधेश शर्मा, शैलेन्द्र रावत सहित कई लोग मौजूद रहे |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top