Headline
पीएम मोदी के कार्यक्रम में किच्छा के युवक को किया गया नोमिनेट
सुप्रीम कोर्ट की फटकार : हरक सिंह रावत और किशन चंद को कॉर्बेट नेश्नल पार्क मामले में नोटिस
उत्तराखंड के ग्राफिक एरा यूनिवर्सिटी में CM धामी ने किया छठवें वैश्विक आपदा प्रबंधन सम्मेलन का शुभारम्भ
उत्तराखंड में निर्माणाधीन टनल धंसने से बड़ा हादसा, सुरंग में 30 से 35 लोगों के फंसे होने की आशंका, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी
मशहूर टूरिस्ट स्पॉट पर हादसा, अचानक टूट गया कांच का ब्रिज, 30 फीट नीचे गिरकर पर्यटक की मौत
81000 सैलरी की बिना परीक्षा मिल रही है नौकरी! 12वीं पास तुरंत करें आवेदन
देश के सबसे शिक्षित राज्य में चपरासी की नौकरी के लिए कतार में लगे इंजीनियर, दे रहे साइकिल चलाने का टेस्ट
Uttarakhand: पहली बार घर-घर किया गया विशेष सर्वे, प्रदेश से दो लाख मतदाता गायब, नोटिस जारी
Uttarakhand: धामी सरकार का एलान, राज्य स्थापना दिवस तक हर व्यक्ति को मिलेगा आयुष्मान कवच

खटीमा विधायक पुष्कर सिंह धामी अब होंगें उत्तराखंड के नए सीएम

पूर्व मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के इस्तीफा देने के पश्चात उत्तराखंड में सियासी हलचल के बीच पुष्कर सिंह धामी को शनिवार को नया सीएम बनाने पर सहमति बन गई है। नए मुख्यमंत्री के रूप में आज होगा धामी का शपथ ग्रहण और धामी बनेंगे प्रदेश के 11वें में मुख्यमंत्री।

अनुच्छेद 164(1) के तहत राज्यपाल मुख्यमंत्री को अपने विवेक का प्रयोग करते हुए स्थापित प्रथा और परंपराओं के अनुसार नियुक्त करेगा। अन्य सभी मंत्रियों की नियुक्ति राज्यपाल द्वारा मुख्यमंत्री की सलाह पर की जाती है।

कौन से बीजेपी के नेता हुए नाराज?

नये सीएम की रेस में इससे पहले दो-तीन नाम थे और कहा गया कि राजपूत या फिर सिंह जाति से ही अगला सीएम होगा। ऐसे में सतपाल सिंह और धनसिंह रावत के नामों पर चर्चा होने लगी थी। दिल्ली हाईकमान के इस फैसले से पार्टी में नाराजगी भी दिखने लगी है। सूत्रों के मुताबिक पुष्कर सिंह के मुख्यमंत्री बनाए जाने से नाराज होकर सतपाल महाराज यशपाल आर्य और हरक सिंह रावत विधायक दल की बैठक खत्म होते ही निकल गए।

कौन है पुष्कर सिंह धामी?

पुष्कर सिंह धामी उधम सिंह नगर जनपद के विधानसभा क्षेत्र खटीमा से दो बार विधायक बन चुके हैं। उन्हें आरएसएस का बहुत करीबी माना जाता है और वह बीजेपी युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष रहे हैं।

पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत का बयान

त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि अगर तीरथ सिंह रावत इस्तीफा नहीं देते, तो इससे संवैधानिक संकट पैदा हो जाता। वही कोरोना के कारण उपचुनाव में देरी हुई है और इन्हीं परिस्थितियों ने इस हालात को जन्म दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top