जानिये कौन थीं कबूतरी देवी जिन्हें लेकर उड़ते हेलिकॉप्टर में सीएम धामी से की गयी चर्चा

Must Read

उत्तराखंड न्यूज़ एक्सप्रेस के इस समाचार को सुनें

उत्तराखंड देवभूमि होने के साथ साथ कलाकारों की भी भूमि है. यही कारण है की आज बॉलीवुड से लेकर तमाम खेल मैदानों में उत्तराखंड के कलाकार अपनी प्रतिभा का जौहर दिखा रहे हैं. एक ऐसी ही कलाकार हुई हैं कबूतरी देवी जो की उत्तराखंडी लोकगायिका थीं। उन्होंने उत्तराखंड के लोक गीतों को आकाशवाणी और प्रतिष्ठित मंचों के माध्यम से प्रसारित किया था। सत्तर के दशक में उन्होंने रेडियो जगत में अपने लोकगीतों को नई पहचान दिलाई। उन्होंने आकाशवाणी के लिए लगभग 100 से अधिक गीत गाए। कुमाऊं कोकिला के नाम से प्रसिद्ध कबूतरी देवी राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित थीं।

चम्पावत में जन्मी कबूतरी देवी को लेकर आज सबसे बड़ी बात जो चर्चा करने योग्य है वो यह की कबूतरी देवी को विभूषित करने के लिए भाजयुमो प्रदेश अध्यक्ष कुंदन लटवाल ने मुख्यमंत्री धामी के साथ उड़ते हेलिकॉप्टर में इस विषय पर चर्चा की तथा साथ ही साथ मुख्यमंत्री को हस्लिखित एक पर्ची भी दी जिससे की बात और अधिक पुख्ता हो जाए. इस बात को स्वम् प्रदेश अध्यक्ष कुंदन लटवाल ने अपनी फेसबुक पोस्ट के माध्यम से सोशल मीडिया पर साझा किया.

अपने निवेदन में कुंदन लिखतें हैं की “कबूतरी देवी ज़िला पिथौरागढ़ से लोक गायक थी, उन्होंने अपना सम्पूर्ण जीवन लोक संस्कृति को बचाने में लगाया और जगह जगह लोगो को पहाड़ के लिए जागरूक किया, नम्र निवेदन है की उनको सरकार से विभूषित किया जाए जिससे लोक संस्कृति संरक्षित हो सके – ” कुंदन लटवाल, प्रदेश अध्यक्ष युवा मोर्चा”

कबूतरी देवी ने लोक गायन की प्रारम्भिक शिक्षा इन्होंने अपने पिता से ही ली। पहाड़ी गीतों में प्रयुक्त होने वाले रागों का निरन्तर अभ्यास करने के कारण इनकी शैली अन्य गायिकाओं से अलग है। विवाह के बाद इनके पति श्री दीवानी राम जी ने इनकी प्रतिभा को पहचाना और इन्हें आकाशवाणी और स्थानीय मेलों में गाने के लिये प्रेरित किया। उस समय तक कोई भी महिला संस्कृतिकर्मी आकाशवाणी के लिये नहीं गाती थीं। उन्होंने पहली बार उत्तराखंड के लोकगीतों को आकाशवाणी और प्रतिष्ठित मंचों के माध्यम से प्रचारित किया था। 70-80 के दशक में नजीबाबाद और लखनऊ आकाशवाणी से प्रसारित कुमांऊनी गीतों के कार्यक्रम से उनकी ख्याति बढ़ी।

उन्होने पर्वतीय लोक संगीत को अंतरराष्ट्रीय मंचों तक पहुंचाया था। उन्होने आकाशवाणी के लिए करीब 100 से अधिक गीत गाए। उन्हें उत्तराखण्ड की तीजन बाई कहा जाता है। जीवन के 20 साल गरीबी में बिताने के बाद 2002 से उनकी प्रतिभा को सम्मान मिलना शुरू हुआ। पहाड़ी संगीत की लगभग सभी प्रमुख विधाओं में पारंगत कबूतरी देवी मंगल गीत, ऋतु रैण, पहाड़ के प्रवासी के दर्द, कृषि गीत, पर्वतीय पर्यावरण, पर्वतीय सौंदर्य की अभिव्यक्ति, भगनौल न्यौली जागर, घनेली झोड़ा और चांचरी प्रमुख रूप से गाती थी।

 

Latest News

पूर्व राज्य मंत्री बिट्टू कर्नाटक ने बताई हरक सिंह रावत को लेकर अंदर की बात

जब तक दूसरी नौकरी का ज्वाइनिंग लेटर हाथ में ना हो।तब तक पहली नौकरी से रिजाइन नहीं करना चाहिए।...
Video thumbnail
बदहाल पहाड़ का ज़िम्मेदार कौन? क्या हैं असल समस्याएँ
03:54
Video thumbnail
पूर्व सीएम हरीश रावत ने लगाये धामी सरकार पर तीन गंभीर आरोप
03:19
Video thumbnail
आचार संहिता में क्या क्या प्रतिबन्ध होते हैं, जानना है ज़रुरी | Know Article 144 in Elections
04:37
Video thumbnail
मिलिए अल्मोड़ा से भाजपा के दावेदार ललित लटवाल से
29:52
Video thumbnail
क्या है अल्मोड़ा की जनता की खवाहिश Almora Uttarakhand Election 2022
26:19
Video thumbnail
पूर्व राजयमंत्री बिट्टू कर्णाटक ने बताया की कांग्रेस को मिलेंगी इतनी सीटे
36:55
Video thumbnail
जानिये #सोमेश्वर विधानसभा में किन मुद्दों पर लड़ा जायेगा आगामी चुनाव
28:34
Video thumbnail
आखिर किस मुद्दे पर लड़ा जायेगा अल्मोड़ा का विधानसभा चुनाव? Uttarakhand News Express
35:12
Video thumbnail
मत्स्य विभाग उत्तराखंड ने बदला मत्स्य निरीक्षक भर्ती का क्राइटेरिया
25:16
Video thumbnail
उत्तराखंड के सीएम पुष्कर सिंह धामी ठेले पर राजमा चावल खाते हुए CM Uttarakhand #Shorts #short
00:27

More Articles Like This