Headline
पीएम मोदी के कार्यक्रम में किच्छा के युवक को किया गया नोमिनेट
सुप्रीम कोर्ट की फटकार : हरक सिंह रावत और किशन चंद को कॉर्बेट नेश्नल पार्क मामले में नोटिस
उत्तराखंड के ग्राफिक एरा यूनिवर्सिटी में CM धामी ने किया छठवें वैश्विक आपदा प्रबंधन सम्मेलन का शुभारम्भ
उत्तराखंड में निर्माणाधीन टनल धंसने से बड़ा हादसा, सुरंग में 30 से 35 लोगों के फंसे होने की आशंका, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी
मशहूर टूरिस्ट स्पॉट पर हादसा, अचानक टूट गया कांच का ब्रिज, 30 फीट नीचे गिरकर पर्यटक की मौत
81000 सैलरी की बिना परीक्षा मिल रही है नौकरी! 12वीं पास तुरंत करें आवेदन
देश के सबसे शिक्षित राज्य में चपरासी की नौकरी के लिए कतार में लगे इंजीनियर, दे रहे साइकिल चलाने का टेस्ट
Uttarakhand: पहली बार घर-घर किया गया विशेष सर्वे, प्रदेश से दो लाख मतदाता गायब, नोटिस जारी
Uttarakhand: धामी सरकार का एलान, राज्य स्थापना दिवस तक हर व्यक्ति को मिलेगा आयुष्मान कवच

Harish Rawat: चुनाव लीड करूंगा और बाद में तय होगा सीएम कौन बनेगा

कांग्रेस हाईकमान में सियासी राजनीति का तराजू कुछ इस तरह से बैलेंस किया है कि हरीश रावत मान गए और प्रदेश के प्रभारी भी मान गए हैं। जी हां उत्तराखंड में अब कांग्रेस की कमान होगी हरीश रावत के हाथ में। हाल ही में राहुल गांधी के साथ हुई बैठक के बाद पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने चुनाव को लीड करने पर रजामंदी जाहिर कर दी है।

लेकिन मुख्यमंत्री कौन बनेगा इस बात की पुष्टि चुनाव के बाद ही की जाएगी। उत्तराखंड कांग्रेस में मचा हड़कंप हरीश रावत के ट्वीट के बाद सुलगता नजर आ रहा है। आपको बता दें कि शुक्रवार को दिल्ली में पार्टी शीर्ष नेतृत्व ने पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के साथ उत्तराखंड कांग्रेस के बड़े नेताओं से बात की और जिसके बाद हरीश रावत ने मीडिया से कहा कि वह अगले साल 2022 के विधानसभा चुनाव को लीड करेंगे।


हरीश रावत ने अपने टि्वटर हैंडल से एक ट्वीट भी किया है जिसमें उन्होंने कहा है कि, “है न अजीब सी बात, चुनाव रूपी समुद्र को तैरना है, सहयोग के लिए संगठन का ढांचा अधिकांश स्थानों पर सहयोग का हाथ आगे बढ़ाने के बजाय या तो मुंह फेर करके खड़ा हो जा रहा है या नकारात्मक भूमिका निभा रहा है। जिस समुद्र में तैरना है।”

फिर वह आगये लिखते है की, “सत्ता ने वहां कई मगरमच्छ छोड़ रखे हैं। जिनके आदेश पर तैरना है, उनके नुमाइंदे मेरे हाथ-पांव बांध रहे हैं। मन में बहुत बार विचार आ रहा है कि #हरीश_रावत अब बहुत हो गया, बहुत तैर लिये, अब विश्राम का समय है!” आगे कहते है की,”फिर चुपके से मन के एक कोने से आवाज उठ रही है “न दैन्यं न पलायनम्” बड़ी उपापोह की स्थिति में हूंँ, नया वर्ष शायद रास्ता दिखा दे। मुझे विश्वास है कि #भगवान_केदारनाथ जी इस स्थिति में मेरा मार्गदर्शन करेंगे।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top