Headline
पीएम मोदी के कार्यक्रम में किच्छा के युवक को किया गया नोमिनेट
सुप्रीम कोर्ट की फटकार : हरक सिंह रावत और किशन चंद को कॉर्बेट नेश्नल पार्क मामले में नोटिस
उत्तराखंड के ग्राफिक एरा यूनिवर्सिटी में CM धामी ने किया छठवें वैश्विक आपदा प्रबंधन सम्मेलन का शुभारम्भ
उत्तराखंड में निर्माणाधीन टनल धंसने से बड़ा हादसा, सुरंग में 30 से 35 लोगों के फंसे होने की आशंका, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी
मशहूर टूरिस्ट स्पॉट पर हादसा, अचानक टूट गया कांच का ब्रिज, 30 फीट नीचे गिरकर पर्यटक की मौत
81000 सैलरी की बिना परीक्षा मिल रही है नौकरी! 12वीं पास तुरंत करें आवेदन
देश के सबसे शिक्षित राज्य में चपरासी की नौकरी के लिए कतार में लगे इंजीनियर, दे रहे साइकिल चलाने का टेस्ट
Uttarakhand: पहली बार घर-घर किया गया विशेष सर्वे, प्रदेश से दो लाख मतदाता गायब, नोटिस जारी
Uttarakhand: धामी सरकार का एलान, राज्य स्थापना दिवस तक हर व्यक्ति को मिलेगा आयुष्मान कवच

पंतनगर – जीबी पन्त यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे अफगानी छात्र, नही लौटना चाहते वापस अपने देश

रुद्रपुर – अफगानिस्तान में तालिबान द्वारा तख्ता पलता के बाद से वहां हालात बेकाबू हैं, महिलाओं और बच्चों के भविष्य को लेकर ख़ास चिंता ज़ाहिर की जा रही है, चारों तरफ हाहाकार मचा हुआ है, वहीँ इन सब में सबसे अधिक परेशान वो अफगानी छात्र है जो विदेशों में रहकर शिक्षा हासिल कर रहे हैं, क्योंकी एक तरफ तो उनका अपना भविष्य है और अगर वो ऐसी स्थिति में वापस अपने मुल्क लौट जातें है तो शायद ही वापस आने के रास्ते खुल पायें.

ऐसी ही स्थिति से पंतनगर यूनिवर्सिटी के पढ़ने वाले चार छात्रों को परेशान कर रखा है, तख्ता पलट से उनकी मुसीबतें बढ़ गयी है और उन्हें तलिबानियों का खौफ सता रहा है। इसलिए उन्होंने विवि प्रशासन और भारत सरकार से अफगानिस्तान के हालात देखते हुए मदद की गुहार लगाई है। जेएनयू की तरह ही उत्‍तराखंड के गोविंद वल्‍लभ पंत कृषि विवि पंतनगर में फेलोशिप पर पढ़ रहे छात्र अब अपने देश वापस नहीं लौटना चाहते हैं। इनकी डिग्रियां पूरी हो चुकी हैं, ऐसे में वह सरकार और प्रशासन के लिए भी एक चुनौती और जिम्‍मेदारी बनकर उभरे हैं।

दैनिक जागरण की खबर के अनुसार जीबी पंत विवि में फेलोशिप पर चार अफगानी छात्र मुस्‍तफ सुल्‍तानी एमएसएसी, हजरत शाह अजीजी एमएसएसी, हासिमी पीएचडी, अब्‍दुल वहाब एमएससी, कर रहे हैं। अब्‍दुल सेमेस्‍टर छुट्टी के दौरान अफगानिस्‍तान चले गए थे। अन्‍य तीनों छात्र भी वतन वापसी तैयारी कर रहे थे, लेकिन अब वहां हालात ने इन छात्रों में दहशत पैदा कर दिया है। अफगानिस्‍तान जाने के बाद से अब्‍दुल के बारे में कोई जानकारी नहीं है। तीन महीने से उनकी अपने स्‍वजनों से भी बात नहीं हो सकी है।

ऐसे में वह उनकी कुशलता को लेकर भी चिंतित हैं। इन छात्रों की डिग्रियां पूरी हो चुकी हैं, पासपोर्ट और वीजा की अवधि भी समाप्‍त होने को है। ऐसे में उनके सामने बड़ी मुसीबत है। अफगानिस्‍तान में अराजकता का माहौल होने के कारण संचार व्‍यवस्‍था भी पूरी तरह से ठप पड़ी है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top