Headline
पीएम मोदी के कार्यक्रम में किच्छा के युवक को किया गया नोमिनेट
सुप्रीम कोर्ट की फटकार : हरक सिंह रावत और किशन चंद को कॉर्बेट नेश्नल पार्क मामले में नोटिस
उत्तराखंड के ग्राफिक एरा यूनिवर्सिटी में CM धामी ने किया छठवें वैश्विक आपदा प्रबंधन सम्मेलन का शुभारम्भ
उत्तराखंड में निर्माणाधीन टनल धंसने से बड़ा हादसा, सुरंग में 30 से 35 लोगों के फंसे होने की आशंका, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी
मशहूर टूरिस्ट स्पॉट पर हादसा, अचानक टूट गया कांच का ब्रिज, 30 फीट नीचे गिरकर पर्यटक की मौत
81000 सैलरी की बिना परीक्षा मिल रही है नौकरी! 12वीं पास तुरंत करें आवेदन
देश के सबसे शिक्षित राज्य में चपरासी की नौकरी के लिए कतार में लगे इंजीनियर, दे रहे साइकिल चलाने का टेस्ट
Uttarakhand: पहली बार घर-घर किया गया विशेष सर्वे, प्रदेश से दो लाख मतदाता गायब, नोटिस जारी
Uttarakhand: धामी सरकार का एलान, राज्य स्थापना दिवस तक हर व्यक्ति को मिलेगा आयुष्मान कवच

अस्पताल शौचालय में नाबालिग का प्रसव, माँ और बच्चा दोनों की मौत; पोक्सो में मुकदमा दर्ज

बीते दिन रुद्रप्रयाग जिला अस्पताल में एक नाबालिग ने बच्चे को जन्म दिया और कुछ ही समय में माँ-बच्चा दोनों की मौत हो गई थी। दरअसल शुक्रवार दोपहर एक महिला अपनी बेटी के उपचार के लिए जिला चिकित्सालय पहुंची। चिकित्सक ने सामान्य उपचार करते हुए उसके खून का सैंपल जांच के लिए भेज दिया। जांच में हीमोग्लोबिन महज तीन ग्राम प्रति डेसीलीटर पाया गया। रिपोर्ट देखने के लिए चिकित्सक ने संबंधित ग्रुप का खून उपलब्ध न होने के कारण लड़की को रेफर करने की बात कही लेकिन महिला बेटी का इलाज अस्पताल में ही करने की जिद पर अड़ी रही। इस पर डॉक्टर ने लड़की को अस्पताल में भर्ती तो कर लिया मगर अस्पताल में भर्ती कराए जाते वक्त होने वाली जांच में डॉक्टरों को उसके गर्भवती होने का पता न चल पाना अपने आप में एक बड़ा सवाल खड़ा करता है।

साथ ही सूत्रों के मुताबिक बताया जा रहा है कि नाबालिग को अस्पताल में भरती कराने को लेकर डॉक्टरों द्वारा नाबालिग की माँ से पहले लिखित लिया गया की अगर उसे कुछ भी होता है तो अस्पताल जिम्मेदार नहीं होगा साथ ही नाबालिग की माँ द्वारा गर्भवती होने की बात डॉक्टरों को नहीं बताई गयी थी जो की परिजनों की लापरवाही को भी दर्शाता है। भर्ती के बाद रात करीब 12 से एक बजे के बीच महिला बेटी को लेकर अस्पताल के शौचालय में गई। जिसके बाद शौचालय में ही लड़की का प्रसव हो गया। इसके बाद वह बेटी को लेकर वार्ड में लौट आई। लड़की को काफी रक्तस्राव हो रहा था जिसके कुछ देर बाद लड़की ने भी दम तोड़ दिया।

अगले दिन शनिवार दोपहर करीब 12 बजे सफाई कर्मियों को शौचालय में नवजात बच्चे का शव मिला। अस्पताल प्रबंधन के अनुसार जब पूरी बात सामने आई तो पता चला की मां ने लड़की के गर्भवती होने की बात डॉक्टर को नहीं बताई थी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने बच्चे और नाबालिग के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा। साथ ही मामले की जांच भी शुरू कर दी।

इस घटना के तुरंत बाद ही अस्पताल प्रशासन ने भी जांच बैठा दी है। जबकि राजस्व क्षेत्र होने के कारण राजस्व पुलिस ने भी कार्रवाई कर दी है। घटना से जुड़े क्षेत्र की राजस्व पुलिस चौकी में अज्ञात के खिलाफ पोक्सो में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। साथ ही प्रभारी नायब तहसीलदार राजपाल सिंह रावत ने बताया कि बीती रात ही मामले में पोक्सो और बलात्कार में अज्ञात के खिलाफ मुदकमा पंजीकृत कर लिया गया है। इन सब के बिच अभी भी यह बात साफ नहीं हो पाई है की बच्चा मृत पैदा हुआ था या प्रसव के बाद उसकी मौत हुई है। पुलिस द्वारा सबको हिरासत में ले, मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top