17.2 C
Dehradun
Tuesday, March 5, 2024

बढती वनाग्नि को रोकने के लिए मुख्यमंत्री धामी ने दिए कड़े निर्देश

Must Read

उत्तराखंड न्यूज़ एक्सप्रेस के इस समाचार को सुनें
- Advertisement -

उत्तराखंड के जंगल लगातार जलकर राख हो रहे है। जंगलो की वनाग्नि अब काबू के बाहर होती जा रही है जिसकी वजह से कई हेक्टेयर जंगलो में पेड़ो का और अन्य उत्पादों का बहुत नुक्सान हो चुका है। स्थानीय लोग बहुत वक्त से सरकार ससे इस पर सवालात कर रहे थे और सरकार द्वारा इस पर कुछ एक्शन की भी मांग लगातार उठ रही थी। ऐसे में उत्तराखंड राज्य के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामीवनाग्नेनि की रोक पर कड़े निर्देश दिए है। सोमवार को मुख्यमंत्री धामी ने सचिवालय में वनाग्नि की रोकथाम के संबंध में समीक्षा बैठक की। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि वनाग्नि को रोकने के लिए वनाग्नि से प्रभावित जनपदों में शीघ्र वन विभाग के उच्चाधिकारियों को नोडल अधिकारी बनाया जाय। जनपदों में डीएफओ द्वारा लगातार क्षेत्रों का भ्रमण किया जाए। वन विभाग, राजस्व, पुलिस एवं अन्य संबंधित विभागों के साथ ही जन सहयोग लिया जाए। महिला मंगल दल, युवक मंगल दल, स्वयं सहायता समूहों एवं आपदा मित्रों से भी वनाग्नि को रोकने में सहयोग लिया जाय। वनाग्नि को रोकने के लिए आधुनिकतम तकनीक का प्रयोग किया जाए।

रिस्पांस टाइम कम से कम किया जाए। चारधाम यात्रा के दौरान वनाग्नि की घटनाओं को रोकने के लिए अधिकारियों की जिम्मेदारी तय की जाय। मुख्यमंत्री ने कहा कि वनाग्नि को रोकने के लिए शीतलाखेत (अल्मोड़ा) मॉडल को अपनाया जाय। शीतलाखेत के लोगों ने जंगलों और वन संपदा को आग से बचाने के शपथ ली। उन्होंने संकल्प लिया कि वे पूरे फायर सीजन में वे अपने खेतों में कूड़ा और कृषि अवशेष नहीं जलायेंगे। इकोनॉमी और ईकॉलॉजी का समन्वय स्थापित करते हुए कार्य किये जाए।मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के विकास के लिए एक नई कार्य संस्कृति एवं कार्य व्यवहार से सभी को कार्य करना होगा। वन सम्पदाओं के संरक्षण के साथ ही वन सम्पदाओं से लोगों की आजीविका को कैसे बढ़ाया जा सकता है, इस ओर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। पिरूल के एकत्रीकरण एवं उससे लोगों की आजीविका कैसे बढ़ाई जा सकती है, इसके लिए ठोस नीति बनाई जाए। राज्य में वन एवं पर्यावरण संरक्षण के लिए ऐसा मॉडल तैयार किया जाए कि इसका संदेश देश-दुनिया तक जाए। वन्य जीवों की सुरक्षा एवं जल स्रोतों के संरक्षण के लिए प्रभावी प्रयासों की जरूरत है। वनाग्नि को रोकने एवं पर्यावरण संरक्षण के लिए जागरूकता के लिए स्कूलों में करिकुलर एक्टिविटी करवाई जाए। वन मंत्री सुबोध उनियाल ने कहा कि वनाग्नि की घटनाओं को रोकने के लिए अधिकारी जन सहभागिता पर विशेष ध्यान दें। वन सम्पदाओं से लोगों की आर्थिकी को जोड़ने के लिए सुनियोजित रणनीति बनाई जाए। वन पंचायतों में फॉरेस्ट फायर मैनेजमेंट कमेटी बनाई जाए। बैठक में अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी, प्रमुख सचिव आरके सुधांशु, प्रमुख वन संरक्षक विनोद कुमार सिंघल, वन विभाग के वरिष्ठ अधिकारी, वर्चुअल माध्यम से गढ़वाल कमिश्नर सुशील कुमार एवं सभी जनपदों से जिलाधिकारी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एवं डीएफओ उपस्थित थे।

- Advertisement -
उत्तराखंड में ‘राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन संस्थान’ की स्थापना के लिए भूमि की व्यवस्था के साथ ही केन्द्र सरकार से...

Latest News

Video thumbnail
केंद्रीयमंत्री रामदास अठावले का तुनिषा शर्मा पर बड़ा बयान #tunishasharma #sheezankhan #shorts #short
00:43
Video thumbnail
#haridwar - #police और बदमाशों के बीच Real #encounter का विडियो
01:20
Video thumbnail
Ankita Bhandari Murder - आरोपियों के resort पर चला Bulldozer
03:20
Video thumbnail
एक ही चाक़ू से प्रेमिका और माँ की हत्या kashipur double murder case
17:14
Video thumbnail
फिल्मों की तरह मौके पर पहुंची पुलिस @uttarakhandnewsexpress
00:52
Video thumbnail
भीमताल - छात्रा ने लगाया प्रोफेसर पर शारीरिक शोषण का आरोप, हंगामा
04:41
Video thumbnail
रोज़ाना 50 किलोमीटर दौड़ने वाले पिता-पुत्र | 50 km daily run father son #Dehradun world record
35:06
Video thumbnail
देहरादून में कांग्रेस कार्यकर्ताओं का विरोध प्रदर्शन, पुलिस ने किया गिरफ्तार
07:22
Video thumbnail
uttarakhand - पुलिसवालों ने कैसे जान पर खेलकर डूबते को बचाया #shorts #short
00:49
Video thumbnail
गर्भवती महिला को करते रहे रेफ़र, तपती धुप में पार्क में दिया बच्चे को जन्म #shorts #short
01:00

More Articles Like This