Rudrapur : कोरोना संक्रमण से हैं पीड़ित तो इन नंबर पर कॉल करें, एम्बुलेंस से लेकर फ्री उपचार तक हो रहा मुहैय्या

Must Read

उत्तराखंड न्यूज़ एक्सप्रेस के इस समाचार को सुनें

रुद्रपुर। कोरोना महामारी प्रकोप के बीच कोरोना सहायता समूह मरीजों के लिए उम्मीद की नई किरण बनकर सामने आया है। कोरोना सहायता समूह एवं सरकार के सामूहिक प्रयासों से आज कोविड के मरीजों को जो निःशुल्क सुविधाएं दी जा रही हैं इसको शायद पूरे प्रदेश में एक नई पहल की शुरुआत के रूप में कहा जा सकता है।

कोरोना सहायता समूह ने संक्रमित मरीजों के उपचार, भोजन से लेकर उन्हें घर से लाने और घर से छोड़ने तक की व्यवस्था बिल्कुल निःशुल्क की है। महामारी के समय कोविड मरीजों के लिए ये व्यवस्थाएं वरदान साबित हो रही हैं। पिछले साल 2020 में जब कोरोना का प्रकोप तेजी से बढ़ा तो सरकार ने संपूर्ण लाॅकडाउन घोषित किया था। इसी दौरान जरूरतमंदों की मदद के लिए कोरोना सहायता समूह के नाम से शहर के बुद्धिजीवियों और समाजसेवियों ने कोरोना सहायता समूह के नाम से ऐसी संस्था का गठन किया, जो निस्वार्थ भाव से हजारों जरूरतमंदों के काम आयी। अब कोरोना की दूसरी लहर में भी यह समूह एक बार फिर सक्रिय हुआ और निस्वार्थ भाव से मरीजों की सेवा में जुटा है।

महामारी के इस कठिन दौर में जिला प्रशासनऔर स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से कोरोना सहायता समूह जरूरतमंदों के लिए मददगार साबित हो रहा है। समूह में शामिल समाजसेवियों के प्रयासों से रुद्रपुर के ईएसआईसी अस्पताल सरकार के सामूहिक सहयोग से 120 बैड का कोविड अस्पताल शुरू किया है। इस अस्पताल में किसी निजी बड़े अस्पताल जैसी सुविधाएं मरीजों को दी जा रही हैं वो भी बिल्कुल निःशुल्क। अस्पताल में समूह ने अपने खर्च पर डाक्टर और नर्सिंग स्टाफ की नियुक्ति कराई है। अस्पताल में निःशुल्क ओपीडी के साथ ही मरीजों की सभी तरह की जांच और उन्हें भर्ती करने से लेकर खाने और मरीज के साथ रहने वाले परिजनों के लिए भी भोजन की व्यवस्थित बिल्कुल निःशुल्क की गई है। जरूरत पड़ने पर बाजार से मंगाई जाने वाली दवाओं की व्यवस्था भी मरीजों के लिए निःशुल्क कराई जा रही है। मरीज को घर से लाने से लेकर स्वस्थ होने के बाद घर तक छोड़ने का पूरा इंतजाम कोरोना सहायता समूह द्वारा कराया जा रहा है।

मरीजों को लाने ले जाने के लिए दो एम्बुलेंस निशुल्क सेवा के लिए लगाई गई है। अस्पताल में जल्द ही आईसीयू और वेंटिलेटर की सुविधा भी शुरू होने जा रही है। समूह के प्रयासों से अस्पताल को तीन बाईआईपैप मशीनें मिल चुकी हैं इसके अलावा दस माॅनीटर की व्यवस्था की जा रही है ताकि आईसीयू वार्ड जल्द शुरू हो सके। समूह के प्रयासों से ईएसआईसी अस्पताल के कोविड वार्ड में 18 एमबीबीएस डाक्टर, 20 नर्स, चार फार्मासिस्ट सहित 40 लोगों का स्टाफ तैनात किया गया है। सभी स्टाफ को वेतन कोरोना सहायता समूह द्वारा ही दिया जा रहा है। कोरोना सहायता समूह का मकसद संक्रमण को रोकना और मरीजों ओर उनके परिजनों की जान बचाना है। इस काम में समूह के लोग पूरे सेवा भाव के साथ जुटे हैं। समूह के लोगों का कहना है कि महंगे इलाज के कारण कई मरीज अस्पतालों का रुख नहीं कर पा रहे थे, जिसके चलते कई लोग उपचार के अभाव में जान गंवा रहे थे। ऐसे हालातों को देखते हुए ही सभी के लिए निःशुल्क उपचार की व्यवस्था की गई है। महामारी के खत्म होने तक यह सेवा चलती रहेगी।

समूह ने निशुल्क उपचार की सेवा का लाभ उठाने के लिए चार मोबाइल नम्बर भी जारी किये हैं। 9837019775, 9837548000, 9639501000, 9997157000 9456542230 आदि नम्बरों पर संपर्क कर कोई भी मरीज निशुल्क सेवा का लाभ उठा सकता है। इन नम्बरों पर संपर्क करने के बाद कोविड मरीज को घर से अस्पताल लाने से लेकर उसे घर छोड़ने तक की पूरी जिम्मेदारी समूह द्वारा उठाई जायेगी। खास बात यह है कि परोपकार का यह नेक काम करने वाले अपना नाम भी उजागर नहीं होने देना चाहते हैं।

 

Latest News

कोरोना को लेकर सरकार सख्त: बिना मास्क पकड़े जाने पर 1000 रुपए तक जुर्माना

देहरादून राजधानी की सड़कों व बाजारों में बिना मास्क के घूमने वालों को यह खबर सावधान करने वाली है।...

More Articles Like This