25.4 C
Dehradun
Tuesday, October 4, 2022

भीमताल कैंपस मामले में अब तक क्या क्या हुआ?, जानिये सम्पूर्ण विवरण

Must Read

उत्तराखंड न्यूज़ एक्सप्रेस के इस समाचार को सुनें
- Advertisement -

आए दिन शिक्षा विभाग से उठ रहे शर्मसार कर देने वाली घटनाओं से हम सब परिचित है। मगर चिंता का विषय यहा यह है कि बावजूद इन घटनाओं के शिक्षा विभाग कि और से अबतक कोई कड़े कदम उठाए नही गए है। ऐसा ही एक मामला कुमाऊं विश्वविद्यालय के भीमताल स्थित सर जेसी बोस तकनीकी परिसर में एक प्रोफेसर पर एक पूर्व शोध छात्रा की ओर से शारीरिक शोषण का आरोप लगाया गया था। इसी के चलते बीते दिनों भाजपा कार्यकर्ताओं ने प्रोफेसर और संबंधित विभागाध्यक्ष पर कार्रवाई की मांग को लेकर परिसर में धरना प्रदर्शन कर तालाबंदी कर दी और कुमाऊं कमिश्नर दीपक रावत को ज्ञापन भेजा था। परिसर निदेशक प्रो. पीसी कविदयाल ने एक टीम गठित कर सप्ताह भर में रिपोर्ट कुलपति को भेजने की बात कहीं थी।

इस घटना के बाद से ही लोगो ने प्रदर्शन कर प्रोफेसर के खिलाफ कारवाई की अपील कि है जिसके चलते उत्तराखंड न्यूज एक्सप्रेस की टीम ने भी भीमताल में लोगो द्वारा किए जा रहे प्रदर्शन को कवर करते हुए लोगो से राय ली जिसमे अधिकतर लोगो की अपील थी कि प्रोफेसर पर कड़ी कारवाई की जाए। जिसके चलते भीमताल (नैनीताल) में बृहस्पतिवार को भीमताल व्यापार मंडल अध्यक्ष सौरभ रौतेला और पूर्व मंडल अध्यक्ष पंकज जोशी ने डीडीओ के माध्यम से सीएम को ज्ञापन भेजकर प्रोफेसर पर कार्रवाई की मांग की।

- Advertisement -

उन्होंने कहा कि परिसर के शिक्षक और कर्मचारी अब जांच को प्रभावित करने के लिए संघर्ष समिति का गठन कर मंगलवार को धरना प्रदर्शन करने वालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की मांग कर रहे हैं ताकि जांच प्रभावित हो सके और प्रदर्शन की आवाज कम कर सकें। साथ ही भाजपा मंडल अध्यक्ष मनोज भट्ट ने बृहस्पतिवार को केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट को इस मामले से अवगत कराया। उन्होंने प्रोफेसर और एचओडी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की ताकि छात्रा को इसके खिलाफ न्याय मिल सके।

कैंपस में अराजकता फैलाने वाले लोगो के खिलाफ कार्यवाही की मांग 

कुमाऊं विश्वविद्यालय के भीमताल स्थित सर जेसी बोस तकनीकी परिसर के प्रबंध अध्ययन विभाग और फार्मेसी विभाग के शिक्षकों और कर्मचारियों ने एक घंटे का कार्य-बहिष्कार किया। उन्होंने मंगलवार को परिसर में कुछ लोगों की ओर से अराजकता करने का आरोप लगाया और उन पर कार्रवाई की मांग की।

संयुक्त संघर्ष समिति के आह्वान पर शिक्षक-कर्मचारियों ने बृहस्पतिवार को एक घंटे कार्य बहिष्कार किया और काली पट्टी बांधकर विरोध जताया। समिति के मीडिया प्रभारी लक्ष्मण सिंह रौतेला ने बताया कि सुबह 10 से 11 बजे तक एक घंटा शिक्षकों और कर्मचारियों ने काली पट्टी बांधकर विरोध दर्ज किया।

संघर्ष समिति ने विश्वविद्यालय प्रशासन से शिक्षक के विरुद्ध जांच 28 अगस्त तक पूर्ण करने की मांग की। उन्होंने मंगलवार को परिसर में हुए धरना-प्रदर्शन और अराजक घटना को अंजाम देने वालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर कार्रवाई की मांग की। वहीँ कैंपस की तरफ से कहा गया की नैनीताल का डीएसबी का कर्मचारी संघ एवं कुमाऊँ यूनिवर्सिटी का कर्मचारी संघ भी भीमताल कैंपस के कर्मचारी संघ के साथ है.

अगर आरोपी प्रोफेसर के खिलाफ कार्यवाही नही हुई तो आन्दोलन और तेज़ 

उत्तराखंड न्यूज़ एक्सप्रेस से बात करके जानकारी देते व्यापार मंडल अध्यक्ष सौरभ रौतेला

बृहस्पतिवार को भीमताल व्यापार मंडल अध्यक्ष सौरभ रौतेला और पूर्व मंडल अध्यक्ष पंकज जोशी ने डीडीओ के माध्यम से सीएम को ज्ञापन भेजकर प्रोफेसर पर कार्रवाई की मांग की। कहा कि परिसर के शिक्षक और कर्मचारी अब जांच को प्रभावित करने के लिए संघर्ष समिति का गठन कर मंगलवार को धरना प्रदर्शन करने वालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की मांग कर रहे हैं ताकि जांच प्रभावित हो सके और प्रदर्शन की आवाज कम कर सकें।

- Advertisement -
देहरादून - अंकिता भंडारी की हत्या को लेकर एसआईटी केस को सुलझाने की मशक्कत में लगी हुई है. जिसमे...

Latest News

More Articles Like This