31.2 C
Dehradun
Friday, April 12, 2024

उत्तराखंड की पहाड़ों में फरवरी में मई जैसा मौसम, मौसम विभाग ने जारी किया येलो अलर्ट

Must Read

उत्तराखंड न्यूज़ एक्सप्रेस के इस समाचार को सुनें
- Advertisement -

उत्तराखंड में ऐसा पहली बार हुआ है जब मौसम विभाग ने फरवरी में अत्याधिक तापमान होने का यलो एलर्ट जारी किया है। मौसम विज्ञान केंद्र, देहरादून ने आशंका जताई है कि अगले कुछ दिन तापमान सामान्य से दस डिग्री तक ज्यादा रहेगा। उत्तराखंड में जहां इस मौसम में पर्यटक स्थल और चारधाम बर्फ से लकदक रहा करते थे। वहीं इस बार केदारनाथ को छोड़कर बाकी तीनों धामों में बर्फ नहीं है और स्थानीय लोगों के अनुसार, ऐसा पहली बार हुआ है।

राज्य में इस बार बेहद कम हिमपात हुआ है। कम हिमपात होने से सेब के काश्तकारों के चेहरों में चिंता की लकीरें उभर आई है। मसूरी में जहां पिछले साल दिसंबर से मार्च तक 85 लाख पर्यटक आये थे, वहीं इस बार महज 11 लाख ही पर्यटक पहुंचे। उत्तराखंड होने के कारण औली में होने वाले स्नोगेम्स भी रद्द कर दिए गए हैं। स्की एंड स्नोबोर्ड एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड देहरादून के सचिव प्रवीण शर्मा ने बताया कि इस साल बर्फबारी कम होने की वजह से स्कीइंग प्रतियोगिता रद्द कर दी गई है। 23 से 26 फरवरी तक चैंपियनशिप प्रस्तावित थी।

यही हाल नैनीताल और मुनस्यारी जैसे पर्यटक स्थलों का भी है। लेकिन मौसम वैज्ञानिकों को चिंता तब होनी शुरू हुई जब तीन हजार मीटर तक की उंचाई वाले हर्षिल, औली समेत उच्च हिमालयी पर्यटक स्थलों पर भी बेहद कम हिमपात हुआ। उत्तराखंडहोनेरी 2023 को उत्तराखंड मौसम विज्ञान केंद्र ने यलो अलर्ट जारी कर सूचना दी कि अगले कुछ दिन पहाड़ों में तापमान सामान्य से दस डिग्री ज्यादा रहेगा। तापमान तीस डिग्री तक जा सकता है, जो कि ऑल टाइम रिकाॅर्ड होगा।

उत्तराखंड के वरिष्ठ ग्लेशियर वैज्ञानिक डीपी डोभाल बताते हैं कि ऐसा बहुत कम होता है कि फरवरी में इतना तापमान चले जाये। कई बार जंगलों में आग लगने के कारण ऐसा हो जाता है। लेकिन इस बार तो आग लगने की घटनाएं भी ज्यादा नहीं है। उत्तराखंडहोनेरीद्र के निदेशक बिक्रम सिंह कहते हैं कि इस बार पश्चिमी विक्षोभ का सामान्य दिशा बदलना और उतर दिशा की ओर बढ़ना, कम बर्फबारी का मुख्य कारण है। कम बर्फबारी से जहां एक ओर जल संकट की आशंकाएं बढ़ेंगी। वहीं, आने वाले दिनों में तापमान में भारी इजाफा होने से ग्लेशियर पिघलने में तेजी आएगी।

- Advertisement -

सिंह बताते हैं कि हर साल नवंबर और दिसंबर के महीने में होने वाली बर्फबारी में बदलाव देखा गया है। लेकिन इस साल यह बदलाव कुछ ज्यादा ही देखा गया। यही वजह है कि बीते साल नवंबर और दिसंबर के महीने में न के बराबर बर्फबारी देखी गई। इसकी एक बड़ी वजह विंटर रेन का कम होना भी उत्तराखंडहोनेरीद्रद हिमालयी ग्लेशियर इस बार बेहद कम रिचार्ज हुए हैं। भागीरथी का उदगम जिस गोमुख ग्लेशियर से होता है, वहां औसतन हर साल औसतन 55 फीट तक हिमपात होता था। लेकिन इस बार 15 फीट से भी कम हुआ है।

वहीं अलकनंदा का उदगम अलकापुरी ग्लेशियर में भी कम हिमपात हुआ है। डोभाल बताते हैं कि उत्तराखंड में ही तीन हजार से ज्यादा ग्लेशियर है। इस बार कम हिमपात होने से कम रिचार्ज हुये हैं। जिससे गर्मियों में नदियों के जल स्तर पर भी फर्क पड़ेगा और नदियों के जल स्तर से जल विद्युत परियोजना में भी कम उत्पादन होता है। गंगोत्री धाम के मुख्य पुजारी मनोहर सेमवाल कहते हैं कि ऐसा पहली बार हुआ है कि गंगोत्री मंदिर में बर्फ दिख ही नहीं रही है। जबकि पिछले साल तक यहां पर पांच फीट तक बर्फ रहती थी और पूरे मौसम में औसतन 20 फीट तक हिमपात हो जाता था।

उत्तराखंड का विंटरर टूरिज्म यहां होने वाली बर्फबारी पर निर्भर है। लेकिन इस साल कम बर्फबारी हुई जिसका सीधा असर पर्यटन क्षेत्र पर भी देखने को मिला है। पर्यटन कारोबार से जुड़े कारोबारियों का कहना है कि कम बर्फबारी के चलते इस साल बीते सालों की तुलना में कम पर्यटकों ने उत्तराखंड का रूख किया। इससे हमारी आमदनी पर भी असर पड़ा है। यही वजह है कि केदारकांठा जैसे उत्तराखंड के विंटर ट्रैक दयारा बुग्याल ट्रैक, नाग टिब्बा ट्रैक पर कम पर्यटक देखे गए।

- Advertisement -
किच्छा - प्रधानमंत्री मोदी ने शुक्रवार (8 मार्च) को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर कई युवा हस्तियों को नेशनल...

Latest News

Video thumbnail
केंद्रीयमंत्री रामदास अठावले का तुनिषा शर्मा पर बड़ा बयान #tunishasharma #sheezankhan #shorts #short
00:43
Video thumbnail
#haridwar - #police और बदमाशों के बीच Real #encounter का विडियो
01:20
Video thumbnail
Ankita Bhandari Murder - आरोपियों के resort पर चला Bulldozer
03:20
Video thumbnail
एक ही चाक़ू से प्रेमिका और माँ की हत्या kashipur double murder case
17:14
Video thumbnail
फिल्मों की तरह मौके पर पहुंची पुलिस @uttarakhandnewsexpress
00:52
Video thumbnail
भीमताल - छात्रा ने लगाया प्रोफेसर पर शारीरिक शोषण का आरोप, हंगामा
04:41
Video thumbnail
रोज़ाना 50 किलोमीटर दौड़ने वाले पिता-पुत्र | 50 km daily run father son #Dehradun world record
35:06
Video thumbnail
देहरादून में कांग्रेस कार्यकर्ताओं का विरोध प्रदर्शन, पुलिस ने किया गिरफ्तार
07:22
Video thumbnail
uttarakhand - पुलिसवालों ने कैसे जान पर खेलकर डूबते को बचाया #shorts #short
00:49
Video thumbnail
गर्भवती महिला को करते रहे रेफ़र, तपती धुप में पार्क में दिया बच्चे को जन्म #shorts #short
01:00

More Articles Like This