Headline
पीएम मोदी के कार्यक्रम में किच्छा के युवक को किया गया नोमिनेट
सुप्रीम कोर्ट की फटकार : हरक सिंह रावत और किशन चंद को कॉर्बेट नेश्नल पार्क मामले में नोटिस
उत्तराखंड के ग्राफिक एरा यूनिवर्सिटी में CM धामी ने किया छठवें वैश्विक आपदा प्रबंधन सम्मेलन का शुभारम्भ
उत्तराखंड में निर्माणाधीन टनल धंसने से बड़ा हादसा, सुरंग में 30 से 35 लोगों के फंसे होने की आशंका, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी
मशहूर टूरिस्ट स्पॉट पर हादसा, अचानक टूट गया कांच का ब्रिज, 30 फीट नीचे गिरकर पर्यटक की मौत
81000 सैलरी की बिना परीक्षा मिल रही है नौकरी! 12वीं पास तुरंत करें आवेदन
देश के सबसे शिक्षित राज्य में चपरासी की नौकरी के लिए कतार में लगे इंजीनियर, दे रहे साइकिल चलाने का टेस्ट
Uttarakhand: पहली बार घर-घर किया गया विशेष सर्वे, प्रदेश से दो लाख मतदाता गायब, नोटिस जारी
Uttarakhand: धामी सरकार का एलान, राज्य स्थापना दिवस तक हर व्यक्ति को मिलेगा आयुष्मान कवच

मैं जाति धर्म परस्त नहीं हूँ, वसुधैव कुटुंबकम पर मेरा विश्वास, अब कुछ नहीं कहूँगा – हरीश रावत

देहरादून

चुनाव बीत गया है पूर्व सरकार ने पिछली बार से कम सीटें जीती है लेकिन कम होने के बावजूद भी सीटें इतनी है की दहाई का आंकड़ा कम भी कर दिया जाए तब भी बहुमत बीजेपी के पास ही रहेगा. वहीँ कांग्रेस इस समय आत्ममंथन में लगी है कल ही CWC की मीटिंग में प्रदेश अध्यक्षों से इस्तीफा मांग लिया गया था और उसके बाद अभी भी आंतरिक कलह से कांग्रेस दो चार हो रही है. सही मायनों में देखा जाए तो यह समय कांग्रेस के लिए काफी संवेदनशील है अगर वो इस समय अपने भीतर आंतरिक कलह पैदा करने वालो को खोज लेती है तथा ऐसे चाटुकारों को किनारे करते हुए बड़ा फैसला लेती है जिन्होंने कांग्रेस की प्रतिभाओं को ऊपर तक नहीं पहुँचने दिया तो निसंदेह यह आत्ममंथन कांग्रेस के लिए हितकारी साबित होगा.

वहीँ आंतरिक परेशानियों से दो चार हो रही प्रदेश कांग्रेस में इस समय हरीश रावत ऐसी परिस्थिति में फंसे है जहाँ उनपर ना सिर्फ बाहरी हमले हो रहे हैं वरन आन्तरिक हमलों से भी जूझना पड़ रहा है. भाजपा ने चुनावों से पहले उन पर मुस्लिम यूनिवर्सिटी बनाने का आरोप लगाया था की हरीश रावत प्रदेश में मुस्लिम यूनिवर्सिटी बनाना चाहतें हैं. आज इस बात का सोशल मीडिया से ज़रिये जवाब देते हुए पूर्व सीएम ने कहा की

“मुस्लिम_यूनिवर्सिटी के प्रसंग को मैं अपनी ओर से यहीं समाप्त करना चाहता हूं। एक बात स्पष्ट है कि कुछ ताकतें मुझको केवल मुस्लिम परस्त सिद्ध करना चाहती हैं और दूसरी बात यह भी सिद्ध है कि कुछ ताकतों को इस बार लगा कि कांग्रेस ने व्यू रचना की है, उस व्यू रचना में सफल होने जा रही है तो उन ताकतों को यह लगा कि बिना कोई मुस्लिम अस्त्र खोजे उनकी नैया पार नहीं हो सकती है, इसलिए मुस्लिम अस्त्र उन्हीं का गढ़ा हुआ है, मैंने जो #FIR दर्ज करवाई है उससे भी स्पष्ट है कि नकली अखबार और झूठा समाचार छपाकर किस प्रकार से उसको भाजपा के सोशल मीडिया के सिपाहियों से लेकर के उनके शीर्ष सिपाहियों ने भी उस अस्त्र का उपयोग हमारी व्यू रचना को ध्वस्त करने और हरीश रावत की राजनीति ध्वस्त करने के लिए किया।
मैं राजनीति में जिंदा रहूं या न रहूं! मगर मैं मानवता प्रस्त हूं, मैं किसी जाति धर्म प्रस्त नहीं हूं और मेरा धर्म, जिस पर मुझे अटूट विश्वास है, वह भी वसुधैव कुटुंबकम कहता है और अब वही ताकतें मेरी बेटी की राजनीति पर भी ग्रहण लगाने के लिए झूठ का सहारा ले रही है। मेरी बेटी ने भी एक FIR दर्ज की है जिसमें उन्होंने शिकायत की है कि किस तरीके से एक झूठा बयान गढ़ कर कहां जा रहा है उन्होंने कहा कि मैं केवल मुसलमानों के वोट से जीती हूं, वह सर्व समाज के आशीर्वाद से जीती हुई बेटी है और हरिद्वार ग्रामीण के सर्व समाज ने उसे अपनी बेटी मानकर विधायक का दायित्व सौंपा है और वह उसको निष्ठा पूर्वक निभाएंगी इसका मुझे भरोसा है।”

#uttarakhand #congress Anupama RAWAT
BJP Uttarakhand

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top